इस वजह से धनतेरस के दिन बर्तन खरीदना माना जाता है शुभ, जानें क्यों जलाते हैं दीया

धनतेरस 2020: दीवाली कोई एक दिन का त्यौहार नहीं हैं बल्कि ये पंचदिवसीय पर्व है जिसकी शुरुआत धनतेरस के साथ ही हो जाती है. पांच दिनों तक चलने वाले इस पर्व में सबसे पहले दिन मनाया जाता है धनतेरस. जो कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की त्रयोदशी तिथि को होता है. इस दिन भगवान धनवंतरि की विशेष तौर पर पूजा होती है. और लोग इस दिन सोने चांदी के अलावा बर्तनों की भी जमकर खरीददारी करते हैं. लेकिन आखिर ऐसा क्यों किया जाता है.क्यों इस दिन बर्तन खरीदना शुभता की निशानी मानी जाती है. चलिए बताते हैं आपको

समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक मास की त्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरि प्रकट हुए थे. जब वो प्रकट हुए तो उनके हाथों में कलश मौजूद था. इसीलिए इस दिन विशेष तौर से बर्तन खरीदने की प्रथा है. इस दिन लोग स्टील, एलुमीनियम के नए बर्तन खरीदकर घर लाते हैं जिसे शुभता की निशानी माना जाता है.

शास्त्रों में मान्यता है कि इस दिन खरीदे गए सामान से 13 गुना बढ़ोतरी होती है. यही कारण है कि लोग इस दिन जमकर खरीददारी करते हैं. सिर्फ बर्तन ही नहीं बल्कि धनतेरस के दिन चांदी खरीदना भी काफी शुभ फलदायी माना गया है. इसीलिए लोग इस दिन चांदी के सिक्के या फिर चांदी की लक्ष्मी – गणेश की मूर्तियां खरीदकर घर लाते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है कि सिर्फ चांदी ही खरीदी जा सकती है बल्कि सोना, तांबा, कांसा व पीतल कोई धातु की वस्तु इस दिन खरीदी जा सकती है. माना जाता है कि धनतेरस के दिन ये चीज़ें खरीदने से मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है और इंसान की किस्मत पलट जाती है.

यूं तो दीवाली को दीपों का त्यौहार कहा जाता है लेकिन दीए जलाने की प्रथा धनतेरस से ही शुरु हो जाती है. इस दिन घर की दक्षिण दिशा में दीपक जलाने का खासा महत्व होता है. कहते हैं कि एक बार यमदेव से उनके दूतो ने प्रश्न किया था कि क्या अकाल मृत्यु से बचने का कोई उपाय है तब यमदेव ने बताया था कि जो मनुष्य धनतेरस के दिन दक्षिण दिशा में दीपक जलाकर रखेगा उसे अकाल मृत्यु का भय कभी नहीं होगा. यही कारण है कि आज भी धनतेरस के दिन लोग दक्षिण दिशा में दीया ज़रुर जलाते हैं. दक्षिण दिशा को यम की दिशा माना जाता है इसीलिए इस दिन यम की पूजा का भी विधान है.

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password