अब कोरोना मरीज के नाम पर तैयार हो रहा फर्जी फेसबुक ID, जुटा रहे कोरोना पॉजेटिव की जानकारी

रायपुर (अविरल समाचार) : कोरोना काल में फेसबुक पर ठगी का जाल फैला रखे शातिर अब दिवंगतों के नाम पर भी पैसे मांगने से गुरेज नहीं कर रहे। छत्तीसगढ़ में पिछले कई दिनों से सक्रिय इस गिरोह का ऐसा ही शर्मनाक करतूत सामने आया है। दरअसल कुछ दिन पहले ही रायपुर के एक प्रतिष्ठित कारोबारी डॉ एसके शर्मा की कोरोना से मौत हो गयी थी। परिजन अभी शोक से उबरे भी नहीं थे कि ठगबाजों की शर्मनाक करतूत ने उनके करीबियों को चौका दिया।

यह भी पढ़ें :

मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर दावे के लिए लगाई गई नई याचिका, कहा ‘असली जन्मस्थान पर मस्जिद का अवैध कब्जा’

दरअसल दिवंगत डॉ शर्मा के नाम पर फर्जी फेसबुक आईडी तैयार कर लिया और मैसेंजर के जरिये चैट कर पैसे मांगने शुरू कर दिये। कुछ दिन पहले ही डॉ शर्मा के निधन हतप्रभ करीबियों ने जब डॉ शर्मा के नाम पर फ्रेंड रिक्वेस्ट को देखा, तो उन्हें यही लगा कि शायद उनके परिजनों ने उनकी यादों को सहेजने के लिए कुछ फेसबुक पेज तैयार किया गया होगा, लिहाजा कईयों ने उनके फ्रेंड रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर लिया। हालांकि कई लोग डॉ शर्मा के निधन से अनजान थे, लिहाजा चर्चित शख्सियत के फ्रेंड रिक्वेस्ट को तुरंत एक्सेप्ट कर लिया, लेकिन कुछ ही घंटों बाद वो सभी इस बात से चौक गये, जब मैसेंजर पर धड़ाधड़ पैसे की डिमांड शुरू कर दी गयी।

यह भी पढ़ें :

IPL 2020: प्वाइंट्स टेबल में बड़ा उलटफेर, दिल्ली को हुआ फायदा, सीएसके नीचे गिरी

कई लोगों ने तत्काल डॉ एसके शर्मा के परिजनों को इसकी सूचना दी, जिसके बाद परिजनों अपील की है कि वो ना तो ऐसे फर्जी फेसबुक आईडी का कोई फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकारें और ना ही किसी तरह का लेनदेन करें। दरअसल कोरोना में फर्जीवाड़े के इस ट्रेंड को शातिरों ने थोड़ा बदल दिया है, वो ज्यादातर उन लोगों को शिकार बना रहे हैं, जो फेसबुक पर खुद को कोरोना पॉजेटिव होने की बात लिखते हैं। वैसे फेसबुक यूजर का फेसबुक क्लोन बनाकर ये शातिर उनके बीमार होने की बात कहकर और हॉस्पीटल में पैसे की जरूरत बताकर पैसे की डिमांड करते हैं। अस्पताल की जानकारी बताने के बाद सामने वाले को भी इस बात का यकीन हो जाता है कि ये कोई ठग नहीं बल्कि सही व्यक्ति है। ऐसे में कई लोग बड़ी आसानी से पैसे दे देते हैं।

यह भी पढ़ें :

मार्केट में नए नाम से एंट्री कर रहे हैं प्रतिबंधित चीनी ऐप, सरकार ने कहा – ऐसा नहीं हो सकता

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password