केन्द्रीय मंत्री नारायण राणे गिरफ्तार,  महाराष्ट्र में सियासी भूचाल, भाजपा, शिवसेना कार्यकर्ताओ के बीच झड़प  

मुंबई (एजेंसी/ न्यूज चैनल). नारायण राणे (Narayan Rane) :  महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackery) के खिलाफ विवादित टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री नारायण राणे (Narayan Rane) को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. राणे ने रत्नागिरी कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी, जिसने अदालत ने खारिज कर दिया. वहीं बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी उनकी जमानत याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार दिया. ऐसे में नाशिक पुलिस के विशेष दस्ते ने रत्नागिरी जाकर उन्हें हिरासत में ले लिया. इससे पहले शिवसेना नेताओं और कार्यकर्ताओं ने राणे के खिलाफ नाशिक, पुणे और महाड़ में तीन एफआईआर दर्ज कराई थीं. इस बयान के बाद शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के बीच भी तनाव बढ़ गया है. वहीं चिपलून स्थित राणे के आवास के बाहर दोनों दलों के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प भी हुई. इस दौरान दोनों ओर खूब पथराव हुए, जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ा.

यह भी पढ़ें :

भूपेश बघेल, टीएस सिंह देव, पुनिया की कांग्रेस आलाकमान के साथ बैठक ख़त्म पढ़ें क्या कहा सीएम ने

नाशिक पुलिस आयुक्त दीपक पांड ने उपायुक्त संजय बरकुंड को राणे को गिरफ्तार करने और उन्हें कोर्ट में पेश करने के लिए एक टीम बनाने को कहा था. आदेश में पांडे ने कहा, ‘मामले की गंभीरता को देखते हुए, मैंने डीसीपी स्तर के अधिकारी संजय बरकुंड को एक टीम गठित करने और गिरफ्तार करने के बाद राणे को कोर्ट के सामने पेश करने के लिए कहा है.’

यह भी पढ़ें :

छत्तीसगढ़ में भीषण सड़क हादसा, विधायक पुत्र सहित 3 की मौत

नाशिक में साइबर पुलिस ने शिवसेना के स्थानीय इकाई प्रमुख की शिकायत पर राणे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 500, 505(2), 153(b)(1) के तहत मामला दर्ज किया है. इसके बाद पुलिस आयुक्त ने केंद्रीय मंत्री को गिरफ्तार करने के आदेश जारी किए थे और इसके लिए टीम गठित की थी. पुणे युवा सेना की शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 153 और 505 के तहत मामला दर्ज किया गया है. महाड़ में भी शिवसेना कार्यकर्ता की शिकायत पर FIR दर्ज हई है.

यह भी पढ़ें :

आज का राशिफल : मेष, मिथुन, सिंह राशि वालों पर ईश्वर की कृपा, कर्क, कन्या, धनु राशि वाले वाद-विवाद से बचें

बीते सोमवार को जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान रायगढ़ पहुंचे राणे ने सीएम ठाकरे को थप्पड़ मारने की बात कही थी. उन्होंने कहा था, ‘यह शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को स्वतंत्रता का वर्ष नहीं पता. वो अपने भाषण के दौरान स्वतंत्रता के वर्षों की गिनती पूछने के लिए पीछे झुक गए. अगर मैं वहां होता, तो उन्हें थप्पड़ मारता.’ बीजेपी नेता ने दावा किया है कि ठाकरे अपने भाषण के दौरान स्वतंत्रता का वर्ष भूल गए थे.

यह भी पढ़ें :

भारतीय राजनीति में युगांतरकारी व्यक्तित्व – कल्याण सिंह

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password