भारत में जीका वायरस की दस्तक, पहला मामला पुणे में

मुंबई (न्यूज चैनल). जीका वायरस : महाराष्ट्र के पुणे में जीका वायरस का पहला मामला सामने आया. 50 वर्षीय महिला जो पुणे जिले के नजदीक बसे बेलसर गांव में रहती हैं, उनमें ये संक्रमण पाया गया. जीका वायरस का मामला अब तक केरल में पाया गया था, जहां 63 केस मिले हैं. पुणे के इस गांव में बसे लोगों को इसके बारे में जानकारी दी जा रही है. वहीं मुंबई में इस बीमारी के फैलने से रोकने के लिए महानगरपालिका तैयार है.

यह भी पढ़ें :

रायपुर में ये इलाके बने कन्टेनमेंट जोन, कलेक्टर ने जारी किये आदेश

पुणे में राज्य का सबसे पहला ज़ीका वायरस का मरीज मिलने के बाद प्रशासन हरकत में आ गया है. डॉक्टरों की टीम गांव के हर एक घर जाकर लोगों की जांच कर रही है. बेलसर के आस पास के करीब सात गांवों में सर्वेक्षण किया जा रहा और स्वास्थ्य विभाग की टीम घर घर जाकर हर व्यक्ति के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी इकट्ठा कर रही है. इसके अलावा गांव में इस बीमारी से बचने के तरीकों को लाउडस्पीकर लगाकर लोगों तक पहुंचाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें :-

एयरटेल (Airtel) ने महंगा किया अपना सस्ता प्लान, पढ़ें कौन सा प्रीपेड पैक  

राज्य के सर्वेक्षण अधिकारी डॉक्टर प्रदीप आवटे ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि बीमार महिला की हालत बिल्कुल ठीक है और चिंता की कोई भी बात नहीं है. उन्होंने बताया कि बेलसर गांव से पिछले कुछ दिनों से बुखार के मरीज़ काफी ज्यादा पाए जा रहे थे जिसके बाद यहां से कुछ लोगों के सैम्पल पुणे के राष्ट्रीय विषाणु संस्था (NIV) को भेजे गए. भेजे गए रिपोर्ट में से एक महिला का रिपोर्ट ज़ीका वायरस के लिए पॉजिटिव पाया गया. फिलहाल गाव में या आस पास के इलाके में कोई भी अन्य मरीज़ नहीं पाए गए हैं. डॉक्टर आवटे ने बताया कि दुनियाभर के अनुभव के मुताबिक ज़ीका वायरस का सबसे ज़्यादा खतरा गर्भवती महिलाओं को है और उसके मुताबिक हम तैयारियां कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें :

छत्तीसगढ़ खेल अंलकरण के लिए आवेदन आमंत्रित, जाने कैसे और कहां करें आवेदन

मुंबई के वोखार्ड हॉस्पिटल के एमडी डॉ बेहरम पद्रीवाला जीका वायरस के बारे में कहते हैं कि इस बीमारी से 90 फीसदी लोग जल्द ठीक हो जाते हैं और इतने गंभीर लक्षण भी नहीं होते हैं. लक्षण जैसे कि सर्दी-बुखार, आंखें लाल होना और सिर दर्द होना हैं. ये संक्रमण गर्भवती महिलाओं से अपने बच्चों में फेल सकता है. वहीं संभोग के दौरान भी लोगों में फैल सकता है. लेकिन इस बीच डॉ. का कहना है कि गर्भवती महिलाओं को ज्यादा खतरा होता है. ये गर्भवती महिला से उसके बच्चे में फैल सकता है. वहीं अगर किसी व्यक्ति ने लक्षणों को नज़रअंदाज़ किया तो गंभीर लक्षण भी देखे जा सकते हैं. जैसे कि मरीज को लकवा भी मार सकता है.

यह भी पढ़ें :

रसोई गैस बुक करें और पाए 900 रु. तक, जाने कहां से और कैसे

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password