रायपुर में कोरोना वायरस : अब घर-घर जाकर, ऑक्सी मीटर से होगी हर व्यक्ति की जांच

रायपुर में कोरोना संक्रमण रोकने निगम का प्रयास, अब आप नहीं छुपा सकेंगे अपनी बीमारी

रायपुर (अविरल समाचार). रायपुर में कोरोना (Covid-19 In Raipur) : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में अब हर व्यक्ति के ऑक्सीजन लेवल की जाँच की जाएगी. इसके लिए नगर निगम ने बकायदा टीम बनाकर कार्य करने की योजना बनाई हैं. राजधानी के रायपुर और बिरगांव नगर निगम के क्षेत्र में ये जांच की जाएगी. इसके लिए 1 हजार ओक्सी मीटर भी आ गये हैं. और कुछ इलाकों में जाँच भी प्रारंभ हो गई हैं. इसपर कुछ पार्षदों की आशंका हैं कि इससे संक्रमण और तेजी से फ़ैल सकता हैं. मगर निगम और डाक्टरों ने इसे ख़ारिज किया हैं.

रायपुर में कोरोना वायरस (Covid-19 In Raipur) का संक्रमण अपने पैर चारों ओर फैला चूका हैं. कोई भी हिस्सा अब इससे अछूता नहीं हैं. राजधानी में लगातार 500 के आसपास नए मरीज मिल रहें हैं. नगर निगम ने तेजी फ़ैल चुके इस संक्रमण की रोकथाम के लिए लगातार प्रयास कर रहा हैं. इसी कड़ी में अब देश के सुरत सहित कुछ अन्य शहरों में सफल हो चुकी इस रणनीति पर अमल किया जा रहा हैं. अब रायपुर में घर-घर जाकर हर व्यक्ति के शरीर के ऑक्सीजन लेवल की जाँच की जाएगी. यदि ऑक्सीजन लेवल 94 से कम आता हैं तो फिर उस व्यक्ति का कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा.

यह भी पढ़ें : 

छत्तीसगढ़ में कोरोना के मरीज 33 हजार के पार, आज 1514 नए मिले, 578 हुए ठीक

नगर निगम के अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य ने अविरल समाचार से चर्चा में बताया कि इसके लिए निगम के 10 जोन में 35 ग्रिड बनाये गए हैं. इनके अंतर्गत 885 सब ग्रिड बनाये गए हैं. हर सब ग्रिड में 2 कर्मचारी होंगे एक आंगनबाड़ी का और एक शिक्षक जो घर-घर जाकर इस कार्य को अंजाम देंगे. इसके पूर्व ये लोग दो बार सर्वे कर चुके हैं पहली बार में सामन्य जानकारी ली गई थी. दूसरी बार में बीपी के बारे में एवं अन्य जानकारी ली गई थी. ये सभी घरों में हर व्यक्ति के ऑक्सीजन लेवल और पल्स रेट चेक करेंगे. मौखिक जानकारी में आम लोग सही जानकारी नहीं दे रहें थे. इस वजह से अब ये प्रयास इस संक्रमण को और अधिक फैलने से रोकने के लिए किया जा रहा हैं. सूरत में जब ये अभियान चलाया गया तो 10 में से 8 लोग संक्रमित पाए गए.

उद्योगपतियों ने दिए 1 हजार ऑक्सी मीटर

निगम के इस कार्य को अंजाम देने के लिए शहर के उद्योगपतियों ने भी सहयोग किया हैं. इसके लिए 1000  ऑक्सी मीटर उन्होंने दिया हैं. जिमसे महिंद्रा इस्पात ने 500, बजरंग इस्पात ने 300 और लघु खनिज एसो. ने 200 मीटर निगम को प्रदान किये हैं.

निगम के कुछ पार्षदों ने चर्चा में बताया कि इससे संक्रमण और तेजी से फैलने की आशंका हैं. हमारे पास वार्ड के लोगों के फोन आ रहें हैं. उनका कहना हैं कि इसे सभी की ऊँगली में लगा कर टेस्ट किया जाएगा जिससे वायरस के फैलने की आशंका और बढ़ जायेगी. मगर निगम के अपर आयुक्त भट्टाचार्य का कहना हैं कि ऐसा नहीं होगा. हमने टीम के लोगों को बकायदा ग्लब्स पहनने की हिदयात दी हैं. और हर एक घर में टेस्ट के बाद मीटर को सेनीटाईज किया जाएगा. और ये घर वालों के सामने किया जाएगा. जिसके लिए टीम के सदस्यों को सेनीटाईजर भी दिया गया हैं.

नहीं फैलेगा संक्रमण : डॉ. राकेश गुप्ता

इस संबंध में शहर के प्रसिद्द इएनटी सर्जन डॉ. राकेश गुप्ता से जब अविरल समाचार ने चर्चा की तो उन्होंने कहा कि यदि मीटर को उपयोग करने के बाद सेनीटाईज किया जाएगा तो संक्रमण के फैलने की आशंका न्यूनतम होती हैं. क्योंकि सेनीटाईज के बाद उसमे से 99 प्रतिशत वायरस मर जाते हैं. इसलिए इस रणनीति से संक्रमण के और तेजी से फैलने की आशंका की जो बात की जा रही हैं वह सही नहीं हैं. 

(प्रतीकात्मक फोटो)

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password