रेलवे ने बंद की अंग्रेजों के जमाने की व्यवस्था, वरिष्ठ अधिकारियों को अब नहीं मिलेंगे ‘बंगला चपरासी’

नई दिल्ली(एजेंसी): रेलवे अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आवास पर काम करने वाले ‘बंगला पियुन’ या खलासियों की नियुक्ति की औपनिवेशिक काल की प्रणाली को खत्म करने की तैयारी कर रहा है और इस पद पर अब कोई नई भर्ती नहीं की जाएगी.रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में बृहस्पतिवार को आदेश जारी किया.रेलवे बोर्ड ने आदेश में कहा है कि टेलीफोन अटेंडेंट सह डाक खलासी (टीएडीके) संबंधी मामले की समीक्षा की जा रही है.

यह भी पढ़ें :

सुशांत केस : SC में बिहार सरकार का हलफनामा, कहा- रिया ने पैसे को लेकर एक्टर को मानसिक रोगी बताया

रेलवे के आदेश में कहा गया है, ‘‘टीएडीके की नियुक्ति संबंधी मामला रेलवे बोर्ड में समीक्षाधीन है, इसलिए यह फैसला किया गया है कि टीएडीके के स्थानापन्न के तौर पर नए लोगों की नियुक्ति की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई जानी चाहिए और न ही तत्काल नियुक्ति की जानी चाहिए.’’

यह भी पढ़ें :

ओवैसी को शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन का करारा जवाब- ‘राम मंदिर पर चुप रहो या पाकिस्तान जाओ’

रेलवे के आदेश में कहा गया है, ‘‘इसके अलावा, एक जुलाई 2020 से इस प्रकार की नियुक्तियों को दी गई मंजूरी के मामलों की समीक्षा की जा सकती है और इसकी स्थिति बोर्ड को बताई जाएगी. इसका सभी रेल प्रतिष्ठानों में सख्ती से पालन किया जाए.’’

यह भी पढ़ें :

WhatsApp : अब अपने आप डिलीट हो जाएंगे मैसेज, आ रहा ये खास फीचर

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password