दिल्ली : बच्ची से रेप का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, पीड़िता की हालत नाजुक

नई दिल्ली (एजेंसी) दिल्ली (Delhi): देश की राजधानी में अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं. अपराधियों में कानून का डर खत्म होता दिख रहा है. हाल ही में दिल्ली के पश्चिम विहार इलाके में 12 साल की बच्ची के साथ हुई दरिंदगी ने एक बार फिर राजधानी को शर्मसार कर दिया है. निर्भया के दोषियों को फांसी मिलने के बाद ये उम्मीद की जा रही थी की इससे समाज में एक संदेश जाएगा. ओर लोग इस तरह की वारदातो को अंजाम देने से डरेंगे. वहीं पश्चिम विहार इलाके में 12 साल की बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म ने बता दिया है कि अपराधियों में कानून का कोई डर नहीं है.

यह भी पढ़ें :

नई शिक्षा नीति में किसी से भेदभाव नहीं, 21वीं सदी के भारत की नींव रखने वाली नीति : नरेंद्र मोदी

दिल्ली,राष्ट्रीय राजधानी में 12 साल की बच्ची के साथ हुई दरिंदगी के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. इससे पहले पीड़िता के घर के पास सीसीटीवी कैमरे में एक संदिग्ध नज़र आया था. नाबालिग के साथ यौन हिंसा की घटना के बाद दिल्ली की कानून-व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं.

यह भी पढ़ें :

अब ट्रंप ने दिया चीन को जोर का झटका: अमेरिका में Tik Tok और WeChat पर लगा बैन

नाबालिग के पूरे शरीर पर धारदार चीज से वार किए गए हैं. पीड़ित लड़की का इलाज दिल्ली के एम्स अस्पताल में चल रहा है. जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है. पुलिस ने बताया कि मंगलवार की शाम को पश्चिम विहार इलाके में आरोपी ने लड़की के चेहरे और पर धारदार वस्तु से प्रहार भी किया था. दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने के लिए नोटिस जारी किया है.

यह भी पढ़ें :

धोनी के फैंस के लिए अच्छी खबर, माही ने झारखंड में ही शुरू की प्रैक्टिस

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एम्स अस्पताल का दौरा कर नाबालिग लड़की से मुलाकात की है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीड़िता की हालत का जायजा लिया है. केजरीवाल ने कहा कि उनकी सरकार पीड़िता के परिवार को दस लाख रुपये की आर्थिक सहायता देगी. इससे पहले मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया था कि घटना ने उन्हें बुरी तरह झकझोर दिया है और इस तरह के अपराधी खुला घूमें, इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें :

ओला, उबर और जोमाटो जैसी कंपनियों के लिए काम करने वालों को मिलेगी पेंशन और मेडिकल सुविधा?

एम्स अस्पताल पहुंचने पर दिल्ली कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के काफिले का घेराव कर नारे बाजी की और चूड़ियां फेंकी. इस मामले पर अब दिल्ली की राजनीति तेज होती नज़र आ रही है. कांग्रेस ने दिल्ली सरकार के रवैये पर सवाल भी खड़ा किया है.

यह भी पढ़ें :

रियल एस्टेट सेक्टर में आएगी रौनक, नेशनल हाउसिंग बैंक को मिलेंगे 5000 करोड़ रुपए

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password