आरबीआई ने दिए ब्याज दरों में कटौती जारी रहने के संकेत

मुंबई (एजेंसी). आरबीआई (RBI): भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने ब्याज दरों में आगे और कटौती के संकेत देते हुए गुरुवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए किए गए उपायों को जल्द नहीं हटाया जाएगा. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि चाहे दर में कटौती हो या फिर अन्य नीतिगत कदम, हमारे तरकश के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं.

यह भी पढ़ें:

अब Uber ने शुरू की ऑटो रेंटल सेवा, एक घंटे या 10 किलोमीटर के लिए देना होगा 169 रुपए किराया

आरबीआई ने छह अगस्त को जारी नीतिगत समीक्षा में रेपो दरों में कोई बदलाव नहीं किया था. केंद्रीय बैंक इससे पहले पिछली दो बैठकों में नीतिगत दर में 1.15 प्रतिशत की कटौती कर चुका है. फिलहाल रेपो दर चार प्रतिशत, रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत और सीमांत स्थायी सुविधा (एमसीएफ) दर 4.25 प्रतिशत है.

यह भी पढ़ें :

भारत में दो लोगों को लगाया गया Covishield का पहला टीका, चिकित्सकों ने कहा कि स्थिति सामान्य

शक्तिकांत दास ने कहा कि महामारी की रोकथाम के बाद अर्थव्यवस्था को मजबूती के रास्ते पर लाने के लिए सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा. केंद्रीय बैंक द्वारा पिछले दिनों घोषित राहत उपायों के बारे में दास ने कहा, ‘‘किसी भी तरह से यह नहीं मानना चाहिए कि आरबीआई उपायों को जल्द हटा लेगा.’’

यह भी पढ़ें:

कमला हैरिस : ईरान को परमाणु हथियार हासिल नहीं करने देगा अमेरिका

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप और अन्य पहलुओं पर एक बार स्पष्टता होने के बाद आरबीआई मुद्रास्फीति और आर्थिक वृद्धि पर अपने पूर्वानुमान देना शुरू कर देगा. गवर्नर ने कहा कि कुल मिलाकर, बैंकिंग क्षेत्र लगातार मजबूत और स्थिर बना हुआ है और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एकीकरण सही दिशा में एक कदम है। दास ने कहा, ‘‘बैंकों का आकार जरूरी है, लेकिन दक्षता इससे भी महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि बैंक तनाव का सामना करेंगे, यह जाहिर सी बात है, लेकिन अधिक महत्वपूर्ण यह है कि बैंक चुनौतियों के समक्ष किस तरह से प्रतिक्रिया देते हैं और उसका सामना करते हैं.’’

यह भी पढ़ें :

तेलंगाना सरकार ने पूर्व PM पीवी नरसिम्हा राव के लिए भारत रत्न की मांग की, सर्वसम्मति से पास हुआ प्रस्ताव

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password