रियल एस्टेट सेक्टर में आएगी रौनक, नेशनल हाउसिंग बैंक को मिलेंगे 5000 करोड़ रुपए

नई दिल्ली (एजेंसी). रियल एस्टेट (Real Estate) : आरबीआई हाउसिंग सेक्टर में कैश फ्लो बढ़ाने के लिए नेशनल हाउसिंग बैंक को 5000 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है . इससे रियल एस्टेट सेक्टर में मांग पैदा हो सकती है और हाउसिंग सेक्टर की कंपनियों की नकदी की दिक्कत कम हो सकती है. रियल एस्टेट सेक्टर में मांग बढ़ने से रोजगार को भी बढ़ाने में मदद मिलेगी. अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ाने के लिए रोजगार में इजाफा जरूरी है. सरकार लगातार रोजगार बढ़ाने की कोशिश में लगी है. रियल एस्टेट सेक्टर में काफी बड़ी तादाद में लोग काम करते हैं. प्रवासी मजदूरों का एक बड़ी तादाद मकान के कंस्ट्रक्शन और इससे जुड़े सेक्टर में काम करते हैं.

यह भी पढ़ें :

नई शिक्षा नीति में किसी से भेदभाव नहीं, 21वीं सदी के भारत की नींव रखने वाली नीति : नरेंद्र मोदी

रियल एस्टेट के लिए आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने गुरुवार को रियल एस्टेट सेक्टर को रफ्तार देने के लिए नोडल बैंक नेशनल हाउसिंग बैंक को 5000 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया. इसके अलावा नाबार्ड को भी 5000 करोड़ रुपये दिए जाएगे ताकि नकदी का संकट झेल रही गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों और माइक्रो फाइनेंस संस्थानों के लिए क्रेडिट फ्लो सुनिश्चित हो.रियल एस्टेट से जुड़े एक्सपर्ट्स ने सरकार के इस कदम का स्वागत किया है. उनका कहना है कि आरबीई ने फंड फ्लो बढ़ाने औैर लोन चुकाने का और वक्त दिया तो इस सेक्टर में मांग बढ़ सकती है और इसकी पुरानी रौनक लौट सकती है. हालांकि कंपनियों का कहना कि उन्हें आरबीआई की ओर से लोन री-स्ट्रक्चिरंग से ज्यादा उम्मीद है.

यह भी पढ़ें :

अब ट्रंप ने दिया चीन को जोर का झटका: अमेरिका में Tik Tok और WeChat पर लगा बैन

रियल एस्टेट सेक्टर पहले ही मांग की भारी कमी से जूझ रहा था. लेकिन कोरोना संक्रमण के दौरान इसकी हालत बेहद खराब हो गई है. रियल एस्टेट ब्रोकरेज फर्म PropTiger के एक सर्वे के मुताबिक अप्रैल-जून अवधि में आठ बड़े शहरों में घरों की बिक्री 79 फीसदी गिरकर 19,038 यूनिट्स पर पहुंच गई है. इसमें कहा गया है कि रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी की बिक्री इस साल जनवरी से जून अवधि के दौरान आठ बड़े शहरों में 52 फीसदी गिरकर 88,593 यूनिट्स हो गई है.दिल्ली-एनसीआर में रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी में 81 फीसदी की गिरावट आई है. रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी की बिक्री में सबसे ज्यादा गिरावट हैदराबाद में आई.

यह भी पढ़ें :

ओवैसी को शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन का करारा जवाब- ‘राम मंदिर पर चुप रहो या पाकिस्तान जाओ’

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password