EPFO ने जारी किए आंकड़े, मई में 3.18 लाख नए लोग नौकरियों से जुड़े-अप्रैल से बेहतर है संख्या

नई दिल्ली (एजेंसी). EPFO : एंप्लाई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन या ईपीएफओ ने मई महीने में नए रजिस्ट्रेशन के विषय में जानकारी दी है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने बताया है कि कोरोना वायरस संकटकाल के दौरान लागू किए गए लॉकडाउन के चलते ईपीएफओ में नए रजिस्ट्रेशन में गिरावट आई है. हालांकि अप्रैल के मुकाबले मई में इसमें सुधार देखा गया है.

यह भी पढ़ें :

राजा मानसिंह हत्याकांडः मथुरा की अदालत ने पुलिस उपाधीक्षक सहित 11 दोषियों को उम्रकैद की सजा दी

EPFO ने बताया है कि मई के महीने में इसमें 3.18 लाख नए रजिस्ट्रेशन हुए हैं जबकि इससे पिछले महीने यानी अप्रैल में नए रजिस्ट्रेशन की संख्या सिर्फ 1.33 लाख रही थी. इस तरह महीने दर महीने आधार पर ईपीएफओ रजिस्ट्रेशन में कुछ सुधार तो देखा गया है लेकिन ये नियमित आधार पर आने वाली संख्या के मुकाबले काफी कम है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि ईपीएफओ में औसत आधार पर हर महीने सात लाख नये सदस्य जुड़ते हैं. हालांकि ये स्थिति लॉकडाउन से पहले की है.

यह भी पढ़ें :

CBSE की तर्ज पर UP बोर्ड ने भी कम किया 30 फ़ीसदी कोर्स, NEET और JEE Main के सिलेबस को रखा ध्यान

इसी साल फरवरी में 10.21 लाख नए सदस्य ईपीएफओ से जुड़े थे और ये लॉकडाउन से पहले हुआ था, लेकिन इसके बाद मार्च 25 से देश में कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन लागू किया गया और मार्च में नए रजिस्ट्रेशन की संख्या घटकर 5.72 लाख रह गई थी. हालांकि लॉकडाउन मार्च के आखिरी हफ्ते में लगा था फिर भी ऐसा समझा जाता है कि ईपीएफओ के नए रजिस्टर होने वाले सदस्यों की संख्या पर इसका असर देखा गया है.

यह भी पढ़ें :

दुनिया और भारत में अब तक कितने करोड़ वैक्सीन बनकर हैं तैयार, बस फाइनल ट्रायल के साथ ग्रीन सिग्नल का है इंतेजार

वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान ईपीएफओ के साथ जो कुल नए सदस्य जुड़े उनकी संख्या 78.58 लाख रही थी और ये आंकड़ा अच्छा कहा जा सकता है. चूंकि ईपीएफओ के आंकड़ों से ये पता चलता है कि संगठित क्षेत्र में रोजगार की स्थिति क्या है तो इस लिहाज से वित्त वर्ष 2019-20 की इस संख्या को अनुमान के मुताबिक ही माना गया. बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान ईपीएफओ के नए सदस्यों की संख्या 61.12 लाख की रही थी.

यह भी पढ़ें :

लॉकडाउन : पुलिस ने आर्म्स फोर्स कमांडो के साथ किया फ्लैग मार्च, लोगों को दी सख्त चेतावनी

ईपीएफओ के आंकड़ों से साफ हो जाता है कि संगठित क्षेत्रों में रोजगार की स्थिति अच्छी नहीं है और इसमें नौकरियों के साथ जुड़ने वाले लोगों की संख्या में चिंताजनक तौर पर कमी आ रही है. हालांकि इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि कोरोना वायरस वायरस महामारी के कारण बनी स्थितियों की वजह से ऐसा हो रहा है लेकिन अब जब स्थितियां धीरे-धीरे सामान्य होने की तरफ बढ़ रही हैं तो ईपीएफओ के नए सदस्यों की संख्या में भी इजाफा होना चाहिए.

यह भी पढ़ें :

सोने से ज्यादा चांदी में फायदा, हाई रिटर्न के लिए लगा सकतें हैं सिल्वर में पैसा

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password