किसान आंदोलन स्थगित, संयुक्त किसान मोर्चा ने लिया फैसला

किसान आंदोलन में शामिल नेता 11 दिसंबर से लौटेंगे घर

नई दिल्ली (एजेंसी). किसान आंदोलन : संयुक्त किसान मोर्चा ने अपना आंदोलन स्थगित करने का फ़ैसला कर लिया है. एक साल से अधिक समय से ये आंदोलन चल रहा था. किसान नेताओं ने कहा है कि वे 11 दिसंबर से अपने घर लौटना शुरू कर देंगे. नेताओं का कहना है कि 15 जनवरी को एक बार फिर वे स्थिति की समीक्षा करेंगे. अगर केंद्र सरकार वादे पूरे नहीं करती है, तो वे फिर आंदोलन करेंगे.

किसान आंदोलन के चलते पिछले महीने नरेंद्र मोदी ने तीन विवादित कृषि क़ानूनों को वापस लेने का फ़ैसला किया था, जिसके बाद आंदोलन ख़त्म होने की उम्मीद बँधी थी. लेकिन उसके बाद किसानों ने एमएसपी और केस वापस लेने की भी मांग की. पिछले कुछ दिनों से किसान और सरकार के बीच बातचीत चल रही थी और अब केंद्र के प्रस्ताव के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने अपना आंदोलन स्थगित करने का फ़ैसला किया है.

यह भी पढ़ें :

भारत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) : ये अफसर संभाल सकते हैं जिम्मेदारी

किसान आंदोलन स्थगित करने के लिए दो दिन पहले केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर संयुक्त किसान मोर्चा ने कुछ स्पष्टीकरण मांगा था. फिर नए दौर की बातचीत हुई और गुरुवार को केंद्र की ओर से नई चिट्ठी आई और इसके बाद आंदोलन स्थगित करने का फ़ैसला हुआ.

किसान नेता बलवीर सिंह राजेवाल ने कहा कि अहंकारी सरकार को झुका कर जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि आंदोलन खत्म नहीं हुआ स्थगित हुआ है. मोर्चे खत्म हो रहे हैं. 11 दिसम्बर से घर वापसी होगी.  राजेवाल ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा बरकरार रहेगा. हर महीने 15 तारीख को बैठक होगी. किसानों के मुद्दे पर आंदोलन जारी रहेगा. चुनाव में उतरने सवाल पर कहा कि मोर्चा चुनाव नहीं लड़ेगा.’

यह भी पढ़ें :

LPG Gas Cylinder : अब एक क्लिक पर भी हो सकती हैं बुकिंग, जाने कैसे ?

वहीं, किसान नेता हन्नान मोल्लाह ने कहा कि आजादी के बाद का यह सबसे बड़ा आंदोलन है. सबसे शांतिपूर्वक आदोलन रहा. किसान मोर्चा ने कहा कि 15 जनवरी को फिर बैठक बुलाई गई है. संयुक्त किसान मोर्चा ने इसे बड़ी जीत करार देते हुए कहा कि अगर सरकार ने अपने वादे पूरे नहीं किए तो फिर से आंदोलन होगा. मोर्चा ने कहा कि इसके जैसा आंदोलन न कभी हुआ और न होगा.

यह भी पढ़ें :

एकादशी के दिन चावल क्यों नहीं खाना चाहिए, पढ़ें क्या हैं धार्मिक और वैज्ञानिक कारण

<

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password